परिचय से मिलता है साहस

चालाक कौआ

एक कौआ था| वह शौकीन स्वभाव का था| एक दिन उसके मन में आया कि उसके पास एक टोपी होनी चाहिए| टोपी पहन कर वह दूसरों से अलग दिखेगा| Read more about चालाक कौआ

परिचय से मिलता है साहस

उजाले की किरण

आभा खुशी से बोली “अब हम लोग पहाड़ी स्थलों पर जाएंगे, दस दिन के कैंप में बहुत मजा आएगा| बहुत अच्छा लगेगा कि दस दिन सारा काम हमें करना होगा|” Read more about उजाले की किरण

परिचय से मिलता है साहस

कविता लिखो प्रतियोगिता

विद्यालय के सूचना पट्ट के आस-पास बच्चों की भारी भीड़ जमा थी| सब सूचना पट्ट पर सूचना को पढ़ने के लिए धक्का-मुक्की कर रहे थे| ‘ Read more about कविता लिखो प्रतियोगिता

परिचय से मिलता है साहस

संगत

हवा और पेड़ों का तो जन्म-जन्म का नाता है यह कहना बड़ा कठिन है कि हवा चलती है तो पेड़ खुश होते हैं या पेड़ जब खुश होते हैं तब हवा चलती है| Read more about संगत

मूर्ख सारस और केकड़ा - The Foolish Swan and the Crab

मूर्ख सारस और केकड़ा

एक बड़े बरगद के पेड़ पर बहुत सारे सारस रहते थे। वहीं पर पेड़ के एक बिल में एक साँप भी रहता था। साँप सारस के छोटे-छोटे बच्चों को खा जाता था। Read more about मूर्ख सारस और केकड़ा

विद्यार्थी और शेर - Four Friends and the Lion

विद्यार्थी और शेर

एक छोटे से नगर में चार ब्राह्मण विद्यार्थी रहते थे। वे एक-दूसरे के बहुत अच्छे मित्र भी थे। उनमें से तीन पढ़ाई-लिखाई में बहुत होशियार थे और बहुत चतुर माने जाते थे। Read more about विद्यार्थी और शेर

कंजूस पिता - Miser Father

कंजूस पिता

सोलह वर्षीय लड़के मकुंडली को पीलिया की बीमारी हो गई। उसका पिता बहुत कंजूस था। Read more about कंजूस पिता

गधा और धोबी - Donkey and the Washer Man

गधा और धोबी

एक निर्धन धोबी था। उसके पास एक गधा था। गधा काफी कमजोर था क्योंकि उसे बहुत कम खाने-पीने को मिल पाता था। Read more about गधा और धोबी