दुर्गा ब्राहमण व ब्रहमचारी साधू से मेल - Meet with Durga Brahmin and Brahmachari Sadhu

दुर्गा ब्राहमण व ब्रहमचारी साधू से मेल

पूर्वोक्त तरह का एक टिकाना, एक जरनैली सड़क के किनारे बसे मेहड़े गांव (परगना मुलाणा) के दुर्गा ब्राह्मण ने भी बना रखा था। Read more about दुर्गा ब्राहमण व ब्रहमचारी साधू से मेल

श्री गुरु अमर दास जी की जीवनी - Shri Guru Amar Das Ji Introduction

श्री गुरु अमर दास जी की जीवनी

साहिब सतगुरु अमरदास जी का जन्म 5 मई सन् 1479 में, बासरके गांव (अमृतसर से लगभग पांच मील की दूरी पर) हुआ। Read more about श्री गुरु अमर दास जी की जीवनी

आचार्य विनोबा भावे - Acharya Vinoba Bhave

आचार्य विनोबा भावे

महात्मा गांधी के पश्चात् सामान्य जनता की सुध लेने और उनके दुःख-दर्द बांटने के लिए यदि किसी महापुरुष ने सफल आन्दोलन चलाया तो सबसे पहले आचार्य विनोबा भावे का नाम आता है। Read more about आचार्य विनोबा भावे

धर्म और विज्ञान का संतुलन - Difference Between Religion and Science

धर्म और विज्ञान का संतुलन

प्राचीन काल से ही धर्म और विज्ञान के बीच विरोधाभास देखा गया है। विभिन्न तर्कों के आधार पर भारत और विश्वभर के ऋषि-मुनियों, विद्वानों, दार्शनिकों ने इस संदर्भ में अलग-अलग व्याख्याएँ दी हैं। Read more about धर्म और विज्ञान का संतुलन

मृत्युदंड - Death Punishment

मृत्युदंड

मृत्युदंड वास्तव में किसी भी सजा के लिए दिया जाने वाला सबसे कठोर दंड होता है। ‘मृत्युदंड’ शब्द सुनते ही दिल-दिमाग में उन शासकों की छवि सामने आती है, Read more about मृत्युदंड

दहेज का अभिशाप - Curse of Dowry

दहेज का अभिशाप

सदियाँ बीत जाने के बावजूद, आज भी, नारी शोषण से मुक्त नहीं हो पाई है। उसके लिए दहेज सबसे बड़ा अभिशाप बन गया है। लड़की का जन्म माता-पिता के लिए बोझ बन जाता है। Read more about दहेज का अभिशाप

सिखी के न्यारे अस्तित्व का उपदेश

भगता की चाल निराली ॥ चाला निराली भगताह केरी बिखम मारगि चलणा ॥ लबु लोभु अहंकारु तजि त्रिसना बहुतु नाही बोलणा ॥
खंनिअहु तिखी वालहु निकी एतु मारगि जाणा ॥ गुर परसादी जिनी आपु तजिआ हरि वासना समाणी ॥ कहै नानकु चाल भगता जुगहु जुगु निराली ॥१४॥

Read more about सिखी के न्यारे अस्तित्व का उपदेश

गाय और उसकी उपयोगिता - Cow and Its Advantages

गाय और उसकी उपयोगिता

एक दिन मेरे मित्र अपने भाई के भोलेपन का वर्णन करते हुए कहने लगे, ”अरे साहब, उनकी कुछ न कहिए। वे तो इतने सीधे हैं कि लोग उन्हें ‘गऊ’ कहते हैं।” Read more about गाय और उसकी उपयोगिता

राष्ट्र धर्म और नागरिक - Country's Religion and Citizen

राष्ट्र धर्म और नागरिक

राष्ट्र धर्म और नागरिक एक सिक्के के दो पहलू हैं। राष्ट्र की उन्नति और समृद्धि इस बात पर टिकी है कि उस देश के नागरिकों को अपने कर्तव्य का बोध है कि नहीं। Read more about राष्ट्र धर्म और नागरिक