श्री गुरु गोबिंद सिंह जी - Shri Guru Gobind Singh Ji

जगता सेठ सेवा करके मुक्त हो गया (Shri Guru Gobind Singh Ji)

(भव-सागर पार कर गया) जगता सेठ भी पटना का एक प्रसिद्ध व्यापारी था। उसकी दुकानें तथा स्टोर देशभर में थे। Read more about जगता सेठ सेवा करके मुक्त हो गया (Shri Guru Gobind Singh Ji)

गुरु परिवार का पटना से कूच करना (Shri Guru Gobind Singh Ji)

गुरु परिवार का पटना से कूच करना (Shri Guru Gobind Singh Ji)

गुरु तेग बहादुर जी आसाम से लौटने के बाद साहिबजादा के दर्शन करने के उपरान्त 23 दिन पटना में ठहरे। वे फिर आनन्दपुर साहिब चले गये तथा परिवार को कुछ समय और पटना में रुकने का आदेश दे गये। Read more about गुरु परिवार का पटना से कूच करना (Shri Guru Gobind Singh Ji)

बाला प्रीतम दानापुर पहुँचे (Shri Guru Gobind Singh Ji)

बाला प्रीतम दानापुर पहुँचे (Shri Guru Gobind Singh Ji)

गुरु परिवार पटना से चला, पूरा काफिला उनके साथ था। बाला प्रीतम एक पालकी में सवार थे। माता नानकी तथा माता गुजरी पालकी में तथा अन्य साथी बैल गाड़ियों पर सवार थे।  Read more about बाला प्रीतम दानापुर पहुँचे (Shri Guru Gobind Singh Ji)

गुरु परिवार काशी पहुँच गया (Shri Guru Gobind Singh Ji) - Guru Family Reached Kashi

गुरु परिवार काशी पहुँच गया (Shri Guru Gobind Singh Ji)

उस समय तक पूरे देश में गुरु नानक के इस घर तथा गुरु तेग बहादुर जी की ख्याति इतनी फैल चुकी थी कि उन्हें हर नगर तथा हर गाँव में रुकना पड़ता। Read more about गुरु परिवार काशी पहुँच गया (Shri Guru Gobind Singh Ji)

अयोध्या में जब बन्दर आये (Shri Guru Gobind Singh Ji) - When the Monkeys Came in Ayodhya

अयोध्या में जब बन्दर आये (Shri Guru Gobind Singh Ji)

साहिबजादा श्री गोबिंद जी बनारस से प्रयाग पहुँचे जहाँ गंगा और यमुना नदियों का मिलन होता है तथा तीसरी नदी सरस्वती जमीन के अन्दर से मिलती है। Read more about अयोध्या में जब बन्दर आये (Shri Guru Gobind Singh Ji)

बाला प्रीतम आनंदपुर पहुंचे (Shri Guru Gobind Singh Ji)

बाला प्रीतम आनंदपुर पहुंचे (Shri Guru Gobind Singh Ji)

लखनौर से चल कर गुरु परिवार कीरतपुर पहुँचा और वहाँ एक रात ठहरा। यहाँ बहुत से खानदान तथा परिवार बसते थे। उनसे मिलकर खुशियाँ बाँटी। Read more about बाला प्रीतम आनंदपुर पहुंचे (Shri Guru Gobind Singh Ji)

आनंदपुर में बाला प्रीतम के कौतुक (Shri Guru Gobind Singh Ji) - Pride of Bala Pritam in Anandpur

आनंदपुर में बाला प्रीतम के कौतुक (Shri Guru Gobind Singh Ji)

गुरु तेग बहादुर अपने साहिबजादा को बहुत प्यार करते थे। उन्होंने बाला प्रीतम को विद्या में निपुण करने के लिए हर भाषा के अध्यापक लगा दिये जो गुरु घर में ही पढ़ाने के लिए आते थे। Read more about आनंदपुर में बाला प्रीतम के कौतुक (Shri Guru Gobind Singh Ji)

कश्मीरी पंडित आनंदपुर आये (Shri Guru Gobind Singh Ji) - Kashmiri Pandit Came to Anandpur

कश्मीरी पंडित आनंदपुर आये (Shri Guru Gobind Singh Ji)

यह घटना 1675 ई० की है। उस समय भारत में औरंगजेब का राज्य था। वह हिन्दुओं को जबरदस्ती ( बलपूर्वक) मुसलमान बनाने लगा। Read more about कश्मीरी पंडित आनंदपुर आये (Shri Guru Gobind Singh Ji)

सीस दीआ पर... (Shri Guru Teg Bahadur Ji)

सीस दीआ पर… (Shri Guru Teg Bahadur Ji)

यह एक ऐतिहासिक वास्तविकता है कि श्री तेग बहादुर जी ने धर्म हित आत्म बलिदान दिया| यह अद्भुत असाधारण साका साधन हेतु किय गया| Read more about सीस दीआ पर… (Shri Guru Teg Bahadur Ji)

शिक्षक-दिवस - Teachers Day

शिक्षक-दिवस – Teachers’ Day

शिक्षक अथवा अध्यापक वह व्यक्ति होता है जो दूसरों को पढ़ा-लिखा कर शिक्षा देने का काम करता है। भारत देश सदैव से गुरुओं व शिक्षकों का देश रहा है। Read more about शिक्षक-दिवस – Teachers’ Day