अग्नि बैताल सिद्धि हेतु मंत्र - Agni Baitaal Siddhi Hetu Mantra

अग्नि बैताल सिद्धि हेतु मंत्र – Agni Baitaal Siddhi Hetu Mantra

ॐ नमो अगिया वीर बैताल |
पैठि सातवें पाताल, लांघ अग्नि की जलती ब्रह्मा के कपाल |
मछली, चील, कागली, गूगल, हरिताल |
इन वस्ताँ को लै चलि, न लै चलै तो माता कालिका की आन ||


विधि :-

होली की रात को मंत्र में कही हुई सामग्री लेकर किसी एकांत स्थान में बैठकर इस मंत्र का जप करें| साधना के समय धूप तथा दीप प्रज्वलित करें| जप से प्रसन्न होकर जप अग्नि बैताल आए तो उसे उपरोक्त सामग्री दे दें | प्रयोग के समय किसी कंकड़ी को लेकर एक सौ आठ बार इस मंत्र को पढ़कर फूंक मरेंगे और जहाँ फेंक देंगें वहीँ आग लग जाएगी|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *